सोमनाथ मंदिर बनने/बनाने के पक्ष में नहीं थे नेहरू, प्रेसिडेंट के वहां जाने से दुखी थे: नरेंद्र मोदी

0
144
Advertisement Goes Here!

गुजरात/इंडिया.  मोदी ने राहुल गांधी के सोमनाथ मंदिर जाने को लेकर तंज कसा। प्रधानमंत्री ने गुजरात के प्राची में अपनी रैली के दौरान देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू का नाम लिए बिना उन्हें सोमनाथ मंदिर का विरोधी बताया।  मोदी ने कहा- कुछ लोग आज सोमनाथ को याद कर रहे हैं। लेकिन, वो इतिहास भूल गए हैं। देश के पहले पीएम (नेहरू) नहीं चाहते थे कि सोमनाथ में मंदिर बने। मोदी ने आगे कहा- तब के राष्ट्रपति डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद जब सोमनाथ मंदिर का उदघाटन करने गए तो नेहरू इससे खफा थे ।

सरदार पटेल के कारण सोमनाथ मंदिर बना

गुजरात के इस विधानसभा चुनाव में राहुल गांधी अब तक बहुत सारे मंदिरों में जा चुके हैं। पहले वो ऐसा नहीं करते थे।
प्राची की रैली में मोदी ने कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के मंदिर जाने को लेकर तंज कसा। पीएम के मुताबिक- नेहरू नहीं चाहते थे कि सोमनाथ मंदिर बने।
मोदी ने कहा- अगर सरदार पटेल नहीं होते तो सोमनाथ मंदिर कभी नहीं बन पाता। आज कुछ लोगों को भगवान सोमनाथ याद आ रहे हैं। मैं उनसे एक सवाल पूछना चाहता हूं। क्या आप इतिहास भूल गए हैं?
प्रधानमंत्री ने आगे कहा- आपके परिवार वाले, हमारे पहले प्रधानमंत्री सोमनाथ मंदिर बनाए जाने के विचार से खुश नहीं थे। जब डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद सोमनाथ मंदिर का उदघाटन करने यहां आए तो पंडित नेहरू ने इस पर नाखुशी जाहिर की थी। सरदार पटेल ने नर्मदा नदी का पानी यहां लाने का सपना देखा लेकिन आपकी (राहुल गांधी की) फैमिली ने उन्हें यह सपना साकार नहीं करने दिया।

कितनी बार मंदिर गए राहुल

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने बुधवार को सोमनाथ मंदिर में दर्शन किए। डेढ़ महीने में राहुल 21वीं बार मंदिर में दर्शन के लिए गए। गुजरात में 9 और 14 दिसंबर को वोटिंग है और 18 दिसंबर को नतीजे आएंगे।

क्या कांग्रेस सेना के खिलाफ है?

– मोदी ने सैनिकों की ‘वन रैंक वन पेंशन’ यानी OROP को लेकर भी कांग्रेस से तीखे सवाल किए। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने इस मुद्दे पर कुछ नहीं किया।
– प्रधानमंत्री ने कहा- मैं कांग्रेस से पूछना चाहता हूं कि क्या वो हमारी सेना के खिलाफ है? OROP का मामला 40 साल तक लटकाकर क्यों रखा गया? एक के बाद एक कांग्रेस की सरकारें आईं लेकिन इस मुद्दे पर कुछ नहीं किया गया।
– पीएम ने आगे कहा- जब चुनाव आए तो उन्होंने 500 करोड़ रुपए OROP के लिए देने का एलान किया। जबकि, जरूरत इससे काफी ज्यादा थी। ये देश की सेवा करने वालों को धोखा देने जैसी बात थी।

ओबीसी कमीशन पर भी सवाल

– कांग्रेस के ओबीसी वोटर्स को लुभाने पर भी मोदी ने तंज कसा। उन्होंने कहा- कांग्रेस ओबीसी कम्युनिटी के वोट पाना चाहती है। लेकिन, इस सवाल का जवाब क्यों नहीं देती कि उन्होंने ओबीसी कमीशन को संवैधानिक दर्जा क्यों नहीं दिया? हम इसे लोकसभा से पास करा चुके हैं लेकिन राज्यसभा में इसे अटका दिया गया। कांग्रेस वहां बहुमत में है।
– पीएम ने इस मुद्दे पर आगे कहा- मैं आपको भरोसा दिलाता हूं कि कांग्रेस भले ही अड़ंगे लगाए लेकिन मैं भी उनकी चाल को नाकाम करने की ठान चुका हूं। संसद सत्र जल्द शुरू होगा और मैं इस मसले को फिर संसद के सामने रखूंगा। हम ओबीसी को उसका हक दिलाना चाहते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here