पाकिस्तान ने कुलभूषण जाधव के मां और पत्नी के मंगलसूत्र तक उतरवा लिए:- सुषमा स्‍वराज

1
73
kulbhushan jadhav
Advertisement Goes Here!

नई दिल्ली/भारत:- kulbhushan jadhav’s के परिवार के साथ पाकिस्तान में दुर्व्यवहार के मुद्दे पर विदेश मंत्री सुषमा स्‍वराज ने बोला कि 25 दिसंबर को जाधव के परिवार ने पाकिस्‍तान में की थी मुलाकात. हम इस मुद्दे को लेकर आईसीजे तक गए और पाकिस्‍तान के फासी के फैसले को अभी अंतराष्‍ट्रीय अदालत ने रोक लगा दिया है.सुषमा स्‍वराज ने कहा कि सुरक्षा के नाम पर परिवार के कपड़े तक उतरावा दिए गए. जाधव की मां साड़ी पहनती है लेकिन उन्‍हें पहनने को सूट दिया गया. सुषमा स्‍वराज ने कहा कि पत्‍नी के ही नहीं मां के भी बिंदी, चूड़ी और मंगलसूत्र उतरावा लिए गये. कुलभूषण की मां ने पाकिस्‍तान के अधिकारियों से कहा था कि ये मेरा सुहाग का प्रतीक है और मैंने कभी नहीं उतरा. सुषमा स्‍वराज ने बताया कि मंगलसूत्र ना देखकर कुलभूषण ने सबसे पहले अपनी मां से पूछा था कि बाबा(पिता) कैसे हैं.

यह भी पढे:- ट्रिपल तलाक बिल आज लोकसभा में पेश होगा, जानें कुछ बातें

सुषमा स्‍वराज ने बोला की उनकी मां और पत्नी की बिंदी, मंगलसूत्र और यहां तक जूते भी उतरवा लिये गये और बातचीत के समय उनके बीच कांच की दीवार लगा दी गयी. इसके अलावा उन्हें अपने मातृभाषा मराठी में बात नहीं करने दी गयी. पाकिस्तान के इस बर्ताव की जितनी भर्त्सना की जाए, कम है. पाकिस्तान  विश्वासघाती है. जाधव को जब तक वापस नहीं लाया जाएगा, हमें चुप नहीं रहना है.सुषमा ने कहा कि ‘पाकिस्‍तान ने जान-बूझकर प्रेस को जाधव के परिवार के पास आने दिया और उन्‍हें तरह-तरह के अपशब्‍दों से संबोधित कर ताने दिए गए.

यह भी पढे:- कर्नल पुरोहित और साध्वी प्रज्ञा के उपर लगा MCOCA हटा, अब IPC की धाराओं मे ही चलेगा केस

सदन में कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा था कि पाकिस्तान ने kulbhushan jadhav’s की मां और पत्नी के साथ जो बर्ताव किया है, हम उसका विरोध करते हैं। हम सब उनके साथ हैं. उन्होंने कहा कि जाधव को वापस लाकर देश में मिसाल कायम की जानी चाहिए.विदेश मंत्री ने कहा, ‘इस तरह पाकिस्‍तान ने दोनों सुहागिनों को विधवा के रूप में पेश किया. सुषमा स्‍वराज ने बताया कि ‘अपने परिवार के साथ मुलाकात के दौरान जाधव काफी तनाव में थे. साफ पता चल रहा था कि उन्‍हें कैद करने वालों ने उन्‍हें जो सीखा-पढ़ाकर भेजा, वो वहीं बोल रहे थे. वह पूरी तरह स्‍वस्‍थ भी नहीं थे, यह साफ दिख रहा था. मानवता और सद्भाव के नाम पर हुई इस मीटिंग में मानवता भी गायब थी और सद्भाव भी नहीं था’

यह भी पढे:- बथुआ(bathua) का पराठा

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here