triple talaq bill
Advertisement Goes Here!

नई दिल्ली/भारत:- लोकसभा में triple talaq bill आज पेश होगा. ये बिल गुरुवार को लोकसभा में पेश करने के लिए लिस्ट कर दिया गया है. इस बिल को लेकर राजनीतिक बहस तेज हो गई है और विधेयक में बदलाव की मांग भी उठ रही है. वहीं केंद्रीय संसदीय कार्यमंत्री अनंत कुमार ने बुधवार को सभी विपक्षी पार्टियों से सदन में triple talaq bill को पारित करने में सहयोग देने का आह्वान किया.प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी बिल को संसद में सर्वसम्मति के साथ पास करने की अपील की है,इस विधेयक के जरिए तत्काल तीन तलाक को अपराध की श्रेणी में लाया जाएगा. कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद मुस्लिम महिला विधेयक पेश करेंगे, जिसमें विवाहित मुस्लिम महिलाओं को अधिकार की रक्षा और किसी भी व्यक्ति द्वारा अपनी पत्नी को शब्दों, इलेक्ट्रॉनिक माध्यम या अन्य किसी तरीके से तलाक देने पर पाबंदी लगाई जाएगी. विधेयक में तत्काल तीन तलाक को दंडात्मक श्रेणी में रखा गया है और इसे संवैधानिक नैतिकता और लैगिंक समानता के विरुद्ध बताया गया है. विधेयक में ऐसा करने वालो के लिए सजा और जुर्माने का प्रावधान है. सजा को बढ़ाकर तीन साल तक किया जा सकता है.

यह भी पढे:- 3 talaq पर केंद्र सरकार का बिल,मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड को मंजूर नहीं, बोले फीर से Review हो

कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि मुस्लिम महिलाओं के अधिकारों की रक्षा के लिए ट्रिपल तलाक बिल पारित कराने को भाजपा ने कमर कस ली है. इसलिए सभी भाजपा सांसदों का संसद में विधेयक को पारित कराने के लिए उपस्थित रहना अनिवार्य है.इससे पहले, केंद्रीय संसदीय कार्य मंत्री अनंत कुमार ने सभी विपक्षी पार्टियों को विधेयक पारित करवाने में मदद करने का आग्रह किया था.इस कानून के मुताबिक, सिर्फ एक बार में तीन तलाक के मामले में लागू होगा और इससे पीड़िता को अधिकार मिलेगा कि वह अपने और नाबालिग बच्चों के लिए ‘उचित गुजारा भत्ते’ की मांग करते हुए मजिस्ट्रेट से संपर्क कर सके. इस कानून के मुताबिक, महिला अपने नाबालिग बच्चों का संरक्षण भी मांग सकती है, हालांकि इस बारे में फैसला मजिस्ट्रेट करेगा.

यह भी पढे:- कर्नल पुरोहित और साध्वी प्रज्ञा के उपर लगा MCOCA हटा, अब IPC की धाराओं मे ही चलेगा केस

तीन तलाक बिल पर AIMPLB का कहना है इस बिल पर मुस्लिम पक्ष की राय नहीं ली गई, ये महिलाओं की परेशानी बढ़ानेवाला बिल है, शरीयत के ख़िलाफ़ तीन तलाक़ बिल, शौहर जेल में होगा तो ख़र्च कौन देगा, जब तीन तलाक़ अवैध तो सज़ा क्यों, किसी तीसरे की शिकायत पर केस कैसे, जिसके साथ बच्चे का भला हो, उसके साथ रहे.

यह भी पढे:- हिन्दू सनातन धर्म के (16) संस्कार कौन कौन से है,जानने के लिए इस पोस्ट को देखे

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here